उत्तर प्रदेशलखनऊ
Trending

उत्तर प्रदेश परिवहन निगम के प्रबंध निदेशक ने दो एआरएम को तत्काल प्रभाव से किया निलंबित

लखनऊ। उत्तर प्रदेश परिवहन निगम के प्रबंध निदेशक  संजय कुमार ने राजेश कुमार प्रभारी सहायक क्षेत्रीय प्रबन्धक, फजलगंज / माती डिपो को जिनके विरुद्ध अपने मूल कर्तव्यों एवं दायित्वों का निर्वहन न करने एवं शिथिलता बरतने, स्वेच्छाचारिता पूर्वक कार्य करने, डिपो में भ्रष्टाचार को बढ़ावा / संरक्षण देने एवं माती डिपो की वाहन संख्या यूपी 77एन 2313 में कुल 15 यात्री यात्रारत थे।

जिसमें से 14 यात्री लखनऊ से कानपुर एवं 01 यात्री लखनऊ से उन्नाव के लिए कुल 15 बिना टिकट पकड़े जाने खराब ईटीएम मशीन निर्गत कराये जाने, फजलगंज डिपो का लोड फैक्टर एवं कैश कलेक्शन कम प्राप्त किये जाने, अपने अधीनस्थ मागों की समुचित चेकिंग न करने/ कराये जाने, चालकों/परिचालकों से निर्धारित मानक से कम संचालन कराये जाने, निगम को वित्तीय क्षति पहुंचाने, डिपो में भ्रष्टाचार को बढ़ावा देने एवं भ्रष्टाचार में संलिप्त रहने उच्चाधिकारियों / मुख्यालय के निर्देशों / आदेशों की अवहेलना करने, अपने कर्तव्यों / निगम के प्रति निष्ठावान न रहने,आदि गंभीर आरोपों के संबंध में अनुशासनिक कार्यवाही प्रख्यापित करते हुये तत्काल प्रभाव से निलम्बित कर दिया है।

पढ़े :  यूपी में बख्शे नहीं जायेंगे अपराधी, नकेल कसने की कार्रवाई तेज

एक अन्य प्रकरण में श्री अजय कुमार, सहायक क्षेत्रीय प्रबन्धक, उप्र परिवहन निगम, विन्ध्यनगर डिपो, वाराणसी क्षेत्र जिनके विरुद्ध, अपने दायित्वों / कर्तव्यों के प्रति घोर उदासीनता बरतने, अधीनस्थों पर पर्यवेक्षीय नियंत्रण शिथिल रखने, मार्ग चेकिंग करने / कराने में शिथिलता बरतने, संचालन प्रतिफलों में गिरावट लाने, निगम को वित्तीय क्षति पहुँचाने, माह जनवरी 2023 से 12 मार्च 2023 तक मुख्यालय द्वारा निर्धारित चेकिंग कार्यक्रम के अनुरूप किसी भी माह में कार्य न करने, परिचालकों के साथ दुरभिसन्धि कर भ्रष्टाचार को बढ़ावा देने, मुख्यालय द्वारा निर्गत आदेशों / निर्देशों का अनुपालन न करने / कराने आदि गम्भीर आरोपों के अन्तर्गत अनुशासनिक कार्यवाही प्रख्यापित करते हुए तत्काल प्रभाव से निलम्बित कर दिया है।

निलम्बन की अवधि में श्री अजय कुमार को वित्तीय नियम संग्रह -2 खण्ड-2 से 4 के मूल नियम 53 के प्राविधानों के अनुसार जीवन निर्वाह भत्ते की धनराशि अर्द्ध वेतन पर देय अवकाश वेतन की धनराशि के बराबर देय होगी तथा उन्हें जीवन निर्वाह भत्ते की धनराशि का महगाई भत्ता, यदि ऐसे अवकाश वेतन पर देय है भी अनुमन्य होगा, किन्तु ऐसे अधिकारी को जीवन निर्वाह के साथ कोई महगाई भत्ता देय नहीं होगा, जिन्हें निलम्बन से पूर्व प्राप्त वेतन के साथ महगाई भत्ता अथवा महंगाई भत्ते का उपातिक समायोजन प्राप्त नहीं था।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button