सेवा
Trending

जब मैं अपने खेल का लुत्फ़ उठाती हूं तो अच्छा प्रदर्शन करती हूं : रेणुका सिंह  

इंग्लैंड की टीम ने यहां से वापसी की और एक प्रतिस्पर्धी स्कोर खड़ा किया। इसके बाद इंग्लैंड के गेंदबाज़ों ने रेणुका के करियर के सर्वश्रेष्ठ गेंदबाज़ी प्रदर्शन की पार्टी को ख़राब दिया।

महिला विश्व कप में भारत के ख़िलाफ़ भले ही इंग्लैंड की टीम ने 11 रनों से जीत दर्ज कर ली हो लेकिन रेणुका सिंह ने दर्शनीय गेंदबाज़ी करते हुए पांच विकेट झटके। रेणुका गेंद को बेहतरीन तरीक़े से स्विंग करा रही थीं। इसी कारण से उन्हें काफ़ी सफलता भी मिली और भारतीय टीम इंग्लैंड को शुरुआती झटके देने में क़ामयाब रही। हालांकि इंग्लैंड की टीम ने यहां से वापसी की और एक प्रतिस्पर्धी स्कोर खड़ा किया। इसके बाद इंग्लैंड के गेंदबाज़ों ने रेणुका के करियर के सर्वश्रेष्ठ गेंदबाज़ी प्रदर्शन की पार्टी को ख़राब दिया।

रेणुका ने मैच के शुरुआती ओवरों में ही अपना लय हासिल कर लिया था। उन्होंने मैच की तीसरी गेंद पर ही एक इनस्विंग गेंद पर डैनी वायट को चलता किया। अपनी पहली गेंद खेल रहीं वायट के बल्ले का किनारा लेकर गेंद कीपर ऋचा घोष के दाईं ओर से निकल रही थी, उन्होंने डाइव लगाया और एक ज़बरदस्त कैच लपका। रेणुका की एक और इनस्विंगर गेंद ऐलिस कैप्सी के ऑफ़ स्टंप के शीर्ष को चूमते हुए गई। कैप्सी ने लाइन के अंदर खेलना चाहा था लेकिन वह गेंद उनके बल्ले को चकमा देते हुए विकेट पर जा लगी। इसके बाद रेणुका ने सोफ़िया डंकली के ऑफ़ स्टंप को भी बिखेर दिया।

भारत ने पावरप्ले में शानदार गेंदबाज़ी करते हुए इंग्लैंड को सिर्फ़ 37 रन ही बनाने दिए। इंग्लैंड की पारी को हेदर नाइट और नैटली सिवर-ब्रंट की अर्धशतकीय साझेदारी ने संभाला और उसके बाद ऐमी जोन्स ने 27 गेंदों में 40 रनों की पारी खेलकर गति प्रदान की। रेणुका को आख़िरी ओवर में गेंद थमाई गई और उन्होंने कैथरिन सिवर-ब्रंट और जोन्स को आउट कर अपने अंतर्राष्ट्रीय करियर में पहली बार पंजा खोला।

पढ़े :  लखनऊ : क्रिकेट मैच में मारपीट के आरोपी इन खिलाड़ियों के खिलाफ सीएएल ने लिया बड़ा एक्शन

मैच के बाद रेणुका ने कहा, सब चाहते हैं कि मैं लुत्फ़ उठाऊं और तभी मैं अच्छा प्रदर्शन भी करती हूं। मेरी प्रकृति ऐसी है कि मैं मुस्कुराती रहती हूं। इससे मुझे आत्मविश्वास मिलता है। पिच तेज़ गेंदबाज़ी के लिए काफ़ी अच्छी थी। शायद हमने 10-15 रन अतिरिक्त ख़र्च कर दिए। चीज़ें हमारे पक्ष में थीं लेकिन हमें पता था कि यह इंग्लैंड के ख़िलाफ़ प्रतिस्पर्धी मैच होगा।

यह सिंतबर में दोनों टीमों के बीच लॉर्ड्स में खेले गए तीसरे वनडे के बाद पहला मैच था। उस मैच में रेणुका सिंह ने चार विकेट चटकाया था और प्लेयर ऑफ़ द मैच रही थीं। भारत ने उस मैच को जीतकर 3-0 से क्लीन स्वीप किया था, लेकिन यह नॉनस्ट्राइक एंड पर दीप्ति द्वारा किए गए रन आउट के लिए याद किया जाता है।

स्मृति मांधना स्विंगिंग परिस्थितियों में टिकी रहीं और कैथरिन को स्क्वेयरलेग के दोनों ओर चौके जड़े। मैच के इस तीसरे ओवर में दो और चौके आए और कुल 16 रन बने। उन्होंने डीन को लॉन्ग ऑन के ऊपर से एक और चौके के लिए भेजा, जिसको नॉनस्ट्राइक छोर पर खड़ीं जेमिमाह ने भी सराहा। लेकिन लेग स्पिनर सारा ग्लेन की गेंदों पर स्मृति सहित महत्वपूर्ण विकेट लगातार अंतराल पर गंवाने भारत को भारी पड़ा। ऋचा घोष 34 गेंदों में 47 रन बनाकर नाबाद रहीं।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button